06-Jul-2019 03:40

कैसा होगा हाजीपुर शहर, वह तय करेंगे हाजीपुर के युवा आज शाम 5:00 बजे

हाजीपुर शहर निर्माण पर चर्चा के लिए शामिल हों, ताकि सुरक्षित शहर का हो निर्माण

लंबे समय से वैशाली जिला प्रशासनिक अधिकारियों की उदासीनता से तबाह हैं। हाहाकार मची है वैशाली के घरों में, बेटा शाम में घर जल्दी आ जाना। जल्दी आने का मतलब इतना ही हैं कि आप बेटी जिंदा आ जाता, तब साथ मिलकर खाना खा लेंगे। आतंक के सारे में जी रहे हाजीपुर शहर को खासकर पुनर्वास की जरूरत है। जिसके लिए युवाओं ने एक समूह बनाकर न्याय से समाज निर्माण का बीड़ा उठाया है। शहर की सड़कों पर पुलिस का अत्याचार और दूसरे हाथ पुलिस का अपराधीकरण करना संकट पैदा कर चुकी हैं। शहरों में बढ़ रही समस्याओं पर सांसद, विधायक, नगर परिषद आंखें बंद कर दशकों से कब्जा कर रखी हैं। अपने घरों का निर्माण करने के लिए बनते सांसद, विधायक और नगर परिषद के वार्ड पार्षद। अब सबों की मिली-जुली भ्रष्टाचार वाली व्यवस्था का होगा अंत।

सर्वविदित हैं कि कुछ वर्षों में हाजीपुर शहर अपराधियों का अड्डा बन गया है। लगातार बढ़ रहे अपराधिक घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए स्थापित पुलिस व्यवस्था नपुंसक होकर बैठी है और जनता के टैक्स का पैसे के साथ ही साथ जगह जगह दुकान लगाकर चंदा संग्रह करती रहती हैं। इसलिए जरूरी हो चला है कि वैशाली के निर्माण और हाजीपुर शहर जो जिला मुख्यालय हैं, इसके सुरक्षित निर्माण का भार युवाओं के हाथों में आ जाए। प्रशासनिक अधिकारियों का नेटवर्क बहुत बड़ा है तो वह कमियों को मानने के लिए तैयार नहीं होते हैं, इसलिए पूरे शहर में कैमरा युक्त टीम के रूप में काम करने की जरूरत है। चाहे वह कैमरा हमारी आंखों को ही बनाकर चलें। सुरक्षित शहर बनाने में सहयोग करें और अपने आप को समर्पित करें सामाज के लिए। इसलिए एक बैठक आहूत की गई है शहर के बीचों बीच अक्षयवट राय स्टेडियम के कला मंच पर। आज शाम 5 बजे युवाओं की भागीदारी और शहरों को निर्भय शहर बनाने के लिए ठोस कदम उठाने पर होगी चर्चा।

आज अक्षयवट राय स्टेडियम में 5 बजे होने वाली बैठक के बाद कुछ समय में शहर में आप बदलाव देंगे। यह बदलाव हमारी एकता का प्रतीक बन कर जिला निर्माण की नई परिभाषा लिखेगा। सामाजिक कार्यकर्ता से लेकर सामाजिक दायित्व के निर्वाहक से आशा है कि वो सभी बैठक में अपनी भूमिका निभायें। हाजीपुर शहर में यह पहला मौका होगा जब किसी राजनीतिक दल, संगठन के बाहर आकर शहर निर्माण पर चर्चा होगी। आप ध्यान देंगे तो पता चलेगा कि शहर लगातार जाम की समस्याओं से जुझ रहा है, लेकिन वैशाली पुलिस अधीक्षक और वैशाली प्रशासन निरंकुश हो कर सत्ता सुख भोग रही हैं। सांसद आरक्षण की मार झेल रहे हैं और आज भी आरक्षितों पर ही आश्रित हैं। वहीं विधायक धरना, प्रदर्शन करने के लिए उताबली रहती हैं, क्योंकि काम करने का अधिकार एक सांसद व केन्द्रीय राज्यमंत्री के हाथों में हैं। हाजीपुर विधायक आंखों पर धृष्टराष्ट्र की भांति पट्टी बांध कर सत्ता सुख भोग रहे हैं। नगर परिषद सभापति और उपसभापति कई कई दशकों से कब्जा कर बैठे हैं, वहीं वार्ड पार्षद के रूप में सत्ता भोगने के लिए दरबारी कर रहे हैं। इसलिए युवाओं ने निर्णय लिया है कि सत्ता नहीं सुरक्षा चाहिए और नये वैशाली का निर्माण करने खुद सड़कों पर आयेंगे।

हाजीपुर शहर का बच्चा बच्चा आज असुरक्षित महसूस कर रहा है। हत्या, बालात्कार, अपहरण जैसी घटनाओं के कारण हर कोई डरा हुआ हैं। शहर हत्याकांड से जुझ रहा है और दिनचर्या में सड़कों पर जामों सें। इसलिए नयी युवाओं की भागीदारी और सोच़ हैं कि शहर जाम मुक्त, कचड़ा मुक्त, नाला सुदृढ़, पानी शुद्ध, बिजली सुदृढ़, अतिक्रमण मुक्त, ठेला-रिक्शा-आटो आदि स्टैंड सुदृढ़, पर्यावरण संरक्षण, पार्किंग, सी सी टी वी युक्त शहर, स्कूलो के गाड़ियों के छुट्टी के समय नियमित यातायात व्यवस्था, नशामुक्त शहर, सब्जी मंडी व्यवस्थित, सड़क सुरक्षित और अस्पताल सुरक्षित तब ही होगा हाजीपुर शहर सुरक्षित। शहर की सुरक्षा और अपनी जिम्मेदारी के लिए शाम 5 बजे शाम अक्षयवट राय स्टेडियम में उपस्थित रहे।

06-Jul-2019 03:40

शहर मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology