04-Oct-2019 10:43

डाॅ. अजीत कुमार को अब तो मौका दे दो भाजपा व संघ

लगभग 3 दशकों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं भाजपा के साथ निरंतर बढ़ रहे हैं फिर भी उनकी ईमानदारी पर शक क्यों ?

डॉ अजीत कुमार हाजीपुर में एक अलग पहचान है। आज वह पतंजलि के साथ जोड़कर सेवा भाव करते हुए एक केंद्र का संचालन कर रहे हैं। साथ ही साथ लगभग तीन दशकों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं भारतीय जनता पार्टी के साथ जोड़कर संगठन को मजबूत करने के तरफ हमेशा तत्व रहते हैं। कभी भी किसी भी परिस्थिति में समाज के साथ बने रहने एवं उनके सुख-दुख में खड़े होने वाले डॉक्टर अजीत कुमार की राजनीतिक महत्वाकांक्षा आज तक सफल नहीं हो पाए। राजनीतिक महत्त्वाकांक्षाओं का मतलब यह नहीं होता है क्यों हर व्यक्ति विधायक या सांसद बन ही जाए , लेकिन राजनीतिक महत्वाकांक्षा का मतलब यह भी नहीं होता है कि तीन दशकों में जो कर्तव्य निष्ठा के साथ काम करता हो, स्वयं संस्थान को विचार करना चाहिए। और आज वैसे ही कार्यकर्ताओं को जगह देने की जरूरत है जो राजनीतिक रूप से भी प्रबुद्ध होकर समाज को एक नया दिशा दे सके।

डॉ अजीत कुमार लगातार हाजीपुर में हो रहे अपराध, हत्या, लूट, सड़क दुर्घटना एवं विभिन्न प्रकार के प्रशासनिक और सफलताओं को लेकर सत्ता में होने के बावजूद आवाज उठाते रहे। इन्होंने हाजीपुर के अपने समाज के साथ मिलकर बरसात हो तो, पानी निकालने का काम आगजनी हो तो, आग बुझाने का काम सड़क पर कोई तड़प रहा है तो, उसकी तरफ मिटाने का काम कोई भूख से बिलख रहा है तो, उसके भूख मिटाने का काम कुछ न कुछ करने का प्रयास करते रहते हैं। एक कर्मठ व्यक्तित्व होने के बावजूद भारतीय जनता पार्टी ने इन्हें कभी तवज्जो क्यों नहीं दिया। यह प्रश्न उठाता है कि जब अनपढ़ और दलाल चाटुकारओ को विधायक पद के लिए चयनित किया जाता है। तो कर्तव्यनिष्ठ अजीत कुमार की तरफ ध्यान क्यों नहीं जाता है।

हाजीपुर में अक्सर कहां जाता है कि जाति गत समीकरणों के कारण डॉक्टर अजीत कुमार को जगह नहीं मिल पाता है। लेकिन जिस सरकार का नेतृत्व या जिस राजनीतिक दल का नेतृत्व यह कह कर किया जाता है कि हां जाति धर्म और समुदाय के लिए कोई जगह नहीं है। सब एक हैं उस स्थिति में हाजीपुर में अनेकों ऐसे लोग हैं जो हाजीपुर के विधायक व सांसद बनने की योग्यता रखते हैं । फिर भी उन्हें सीट नहीं मिलती है और पूर्व के विधायक और सांसदों के चाटुकार दलालों को या नौकरों को विधायक व सांसद बना दिया जाता है, राजनीतिक पार्टियों के टिकटो पर ही।

अब यह एक नई बात नहीं है की हाजीपुर की दुर्दशा और दशा बदलने में वर्तमान एवं पूर्व विधायक की भूमिका इतनी निंदनीय हो चुकी है की हाजीपुर का विकास होने की कोई भी आशा नजर नहीं आती है वही डॉक्टर अजीत कुमार से कई बार बातों ही बातों में यह जानने का मौका मिला, युवक इतने कट्टरता के साथ भारतीय जनता पार्टी में है। वही भारतीय जनता पार्टी से कहीं ज्यादा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रति जिम्मेवार व्यक्तित्व के रूप में अपनी छवि बनाई। लेकिन कोई ऐसी बात तो है जो डॉक्टर अजीत कुमार को आगे बढ़ने या बढ़ाने से रोकती। यह एक राजनैतिक षड्यंत्र का हिस्सा बनकर डॉक्टर अजीत कुमार का भाजपा एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक में आस्था रखना कितना सही है यह आने वाला समय ही बताएगा।

04-Oct-2019 10:43

व्यक्तित्व मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology