11-Dec-2019 10:39

मेरे खून का एक – एक कतरा है संविधान विरोधी नागरिकता बिल के खिलाफ : पप्‍पू यादव

नागरिकता संशोधन बिल, 2019 के खिलाफ सड़क पर उतरे जन अधिकार पार्टी के नेता, कहा – हम देश नहीं बंटने देंगे

पटना, 11 दिसंबर 2019 : लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल, 2019 पास होने के बाद से देश भर में लोगों का विरोध अब सड़कों पर आ गया है। इसी क्रम में आज पप्‍पू यादव की जन अधिकार पार्टी (लो) के नेताओं ने पटना यूनिवर्सिट गेट से प्रदेश अध्‍यक्ष रघुपति प्रसाद सिंह के नेतृत्‍व में महिलाओं पर हो रहे अत्‍याचार और नागरिकता संशोधन बिल, 2019 के खिलाफ प्रतिरोध मार्च निकला और कारिगल चौक पर मोदी – अमित शाह मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए बिल की कॉपी फाड़ दी। इस दौरान पार्टी के नेता राष्‍ट्रीय कार्यकारी अध्‍यक्ष अखलाक अहमद, राजेश रंजन पप्‍पू, शंकर पटेल, पटना विवि अध्यक्ष मनीष कुमार, आमिर राजा, अरविंद यादव, टिक्‍का खान, एजाज अहमद समेत कई नेता और कार्यकर्ता शामिल रहे।

पप्‍पू यादव ने देश के प्रबुद्धजनों और बाबा साहब को चाहने वालों को घर से बाहर निकल कर इस बिल का विरोध करने का आह्वान किया। उन्‍होंने कहा कि हमारे ही घर में कैंप में शरणार्थी की तरह रखकर उस पर खर्च करना कहां की समझदारी है। उन्‍होंने कहा कि अमन पसंद देश में आप आर्थिक उन्‍नति और इंसान की तरक्‍की की होती है। लेकिन इस देश में कब कौन सा बिल आकर लोगों को परेशान करे। कहा नहीं जा सकता है। चाहे वह जीएसटी हो, अनुच्‍छेद 370, तीन तलाक, नोट बंदी से देश कितना भला हुआ। इसलिए इस बिल का पूरी मजबूती के साथ हम विरोध करते हैं।

बाद में जाप (लो) नेताओं ने कहा कि एनडीए सरकार द्वारा लोकसभा से पास कराया गया नागरिकता संशोधन बिल भारत के संविधान के आर्टिकल 14 का उल्लंघन है, जिसमें सभी धर्म के लोगों को मिले अधिकार की रक्षा करने तथा किसी के प्रति भेदभाव की नीति नहीं अपनाने की बात कही गई है। इसलिए हम देश तोड़ने वाली किसी भी नीति और कानून का समर्थन नहीं करते हैं। कश्‍मीर को पहले ही बारूद के ढ़ेर पर ला खड़ा किया और पूरा नॉर्थ ईस्‍ट जल रहा है। ऐसे कानून लाने का क्‍या मतलब जिससे देश की एकता और अखंडता खतरे में पड़ जाये। देश में तो बलात्‍कार, महंगाई, बेरोजगारी, शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य जैसी कई संवेदनशील मुद्दें हैं, जिस पर बीते 6 सालों में मोदी सरकार को कभी कुछ करते नहीं देखा। उल्‍टे अपने उलूल – जुलूल फैसलों से देश को गुमराह कर नफरत फैलाने का काम किया है।

नेताओं ने कहा कि इस बिल के खिलाफ सभी नागरिकों, पार्टियों, बुद्धिजीवियों, समाजसेवियों को आगे आकर देशहित के सोच में काम करने वाले सभी लोगों को इस बिल को राज्यसभा में पास होने से पहले विरोध के लिए माहौल बनाना होगा, अन्यथा यह बिल देश को कमजोर ही करेगा। उन्‍होंने कहा कि हम देश नहीं बंटने देंगे।

11-Dec-2019 10:39

राजनीति मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology