25-Oct-2019 05:47

बिहार में एनडीए को मंथन करने की जरूरत - अर्जुन भारतीय

अति आत्मविश्वासएवं असावधानी की छोटी भूल के कारण ही थोड़ी- सीकमी रह गई है

उपचुनाव के परिणाम से कई संदेश निकले हैं/पक्ष विपक्ष दोनों के लिए। विपक्ष की बात छोड़िए, वह तो भानुमति का पिटारा है,। बात सत्तापक्ष (एनडीए) के लिए जरूरी है, बात कुछ बिगड़ी नहीं है, फिर भी सावधानी की जरूरत है। अपेक्षा संयम, अनुशासन एवं चिंतन-मंथन की है। बिहार की नजर सिर्फ एनडीए परहै और अपेक्षा भी एनडीए से ही है। ऐसे में उसकी जवाबदेही औरों से ज्यादा है।

अति आत्मविश्वासएवं असावधानी की छोटी भूल के कारण ही थोड़ी- सीकमी रह गई है। उपचुनाव के एक प्रसंग का उल्लेख करके हम अपनी बात पूरी करना चाहते हैं। दरौदा(सिवान)के विधानसभा उपचुनाव, यहां लड़ने के लिए एनडीए के दोनों दल भाजपा एवं जदयू तैयार थे। उम्मीदवारी को लेकर दोनों में रस्साकशी चली। जदयू जिद करके यहां का टिकट ले लिया। उसका तार्किक हक भी था, लेकिन जमीनी हकीकत की पहचान करने में चुप हो गई। जिस उम्मीदवार को लेकर जद यू डटा रहा, उसकी बजाय भाजपा का उम्मीदवार कई मायनों में ज्यादा बेहतर था। इस गंभीरता को ध्यान में नहीं रखा गया। वैसे तो, भाजपा का बागी निर्दलीय उम्मीदवार करनजीत सिंह उर्फ व्यास सिंह ने बाजी मारली, शुक्र कहिए किविपक्षी की जीत नहीं हुई ?

जदयू के बजाय जदयू सुप्रीमो के लिए इस पर खास ध्यान देने की जरूरत थी, कि जदयू सुप्रीमो नीतीश कुमार की सोच और समझदारी बहुत हद तक पारदर्शी है। उनकी छवि को ध्यान में नहीं रखा गया। बावजूद इसके जिस उम्मीदवार के लिए जदयू ने जिद करके उम्मीदवारी ले ली,उसको लेकर कोई गिलवा- शिकायत नहीं है। गिलवा-शिकायत तो उम्मीदवार को लेकर है, जिसके दामन पर अपराध के धब्बे लगे हुए हैं।

गहरे धब्बे, उम्मीदवार अजय कुमार सिंह उनकी उम्मीदवारी को लेकर नीतीश कुमार की छवि पर भी असर पड़ा है। जबकि अजय कुमार सिंह की पत्नी निर्वाचित जदयू सांसद हैं। ऐसे में वंशवाद का दाग भी हमारी अपेक्षा रहेगी कि एनडीए के हित के लिए आगे ऐसी स्थितियों से सजग और सतर्क रहा जाए। विधानसभाके अगले आमचुनाव में ध्यान देने की जरूरत है, जो 1 साल के भीतर होना है, की राह में कोई लेकिन-परंतु अथवा अडचन की छाया भी नहीं आने पावेपलभर की असावधानी भी, "सावधानी गई, दुर्घटना हुई", खतरा पैदा कर देती है। वही खतरा इस उपचुनाव में हुआ है। एनडीए सतर्क और सावधान बने, आगे सफलता एनडीए के लिए पलक पावडे बिछाए हुए है।

25-Oct-2019 05:47

राजनीति मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology