29-Oct-2019 08:45

पप्‍पू यादव ने किया अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर बैठे डीएलएड शिक्षकों की मांगों का समर्थन

कहा – शिक्षकों और बच्‍चों के भविष्‍य के साथ खिलवाड़ कर रही है राज्‍य सरकार, NIOS डीएलएड सेवारत प्रशिक्षित शिक्षकों के हक के लिए होगी आर–पार की लड़ाई : पप्‍पू यादव

पटना, 29 अक्‍टूबर 2019 : जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष सह मधेपुरा के पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव आज राजधानी पटना के गर्दनीबाग स्थित धरना स्‍थल पर NIOS डीएलएड सेवा‍रत प्रशिक्षित शिक्षकों द्वारा 26 अक्‍टूबर 2019 से जारी अनिश्चितकाली आमरण अनशन में शामिल हुए और उनकी मांगों का मजबूती से समर्थन किया। इस दौरान उन्‍होंने राज्‍य सरकार पर शिक्षकों और छात्रों के भविष्‍य के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया । उन्‍होंने कहा कि जब देश के दूसरे राज्‍यों में NIOS डीएलएड सेवा‍रत प्रशिक्षित शिक्षकों को नौकरी देने में कोई परेशानी नहीं है, तो बिहार सरकार क्‍यों 2.50 लाख NIOS डीएलएड सेवा‍रत प्रशिक्षित शिक्षकों के भविष्‍य के साथ खिलवाड़ कर रही है।

पप्‍पू यादव ने राज्‍य सरकार को आगह करते हुए कहा कि NIOS डीएलएड सेवारत प्रशिक्षित शिक्षकों का यह आमरण अनशन सरकार के लिए अंतिम कील साबित होगी। हम कोर्ट में भी इन शिक्षकों की लड़ाई में साथ खड़े होंगे और इनकी मांगों का पुरजोर समर्थन करेंगे। उन्‍होंने कहा कि बिहार के भविष्‍य को बचाने के लिए लड़ाई अब आर – पार की होगी। जाप (लो) अध्‍यक्ष ने कहा कि बिहार में एक ही बहाली 3 बार निकाली जाती है और इसके जरिये छात्रों के पैसों की उगाही की जाती है। राज्‍य सरकार 30 सालों में संविदा और नियोजित को छोड़ कर एक भी स्‍थायी नौकरी देने में भी विफल रही है। ऐसे में ये चुनाव के समय लॉलीपॉप लेकर आते हैं,जिससे ये वोट के लिए लोगों को इस्‍तेमाल करते हैं। इस लॉलीपॉप से आज बचने की जरूरत है।

इस दौरान NIOS डीएलएड सेवारत प्रशिक्षित शिक्षकों ने कहा कि सर्वोच्‍च न्‍यायालय के आदेशानुसार संसद के दोनों सदनों से पारित प्रस्‍ताव द्वारा सरकारी एवं गैर सरकारी प्रारंभिक विद्यालयों में सेवारत अप्रशिक्षित शिक्षकों को 31 मार्च 2019 तक प्रशिक्षित होना आवश्‍यक था। NCTE एवं MHRD द्वारा NIOS के माध्‍यम से द्विवर्षीय डीएलएड के पाठ्यक्रम को पूरा करने की स्‍वीकृति प्रदान की गई थी। इस पाठ्यक्रम को पूरा कराने में NIOS द्वारा भारत सरकार की SWAYAM पोर्ट, SWAYAMPRABHA DTH, VAGDA, Community, radic मुक्‍तवाहिनी एवं स्‍टडी सेंटरों जैसे माध्‍यमों का उपयोग किया गया। मगर इतने प्रशिक्षण के बावजूद भी बिहार सरकार ने डीएलएड प्रशिक्षण प्रमाण पत्र को अमान्‍य बता कर बिहार के सभी जिला शिक्षा पदाधिकरी एवं सभी जिला कार्यक्रम अधिकारी को प्रारंभिक विद्यालयों के शिक्षक नियोजन में आवेदन प्राप्‍त नहीं करने का निर्देश दिया है। इसके खिलाफ डीएलएड प्रशिक्षित शिक्षक अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर बैठे हैं।

उन्‍होंने कहा कि हमारी मांग है कि देश के अन्‍य राज्‍यों जैसे असम, सिक्किम, हरियाणा, दिल्‍ली आदि राज्‍यों के तर्ज पर बिहार के गैर सरकारी प्रारंभिक विद्यालयों के सेवारत डीएलएड और शिक्षक पत्रता परीक्षा उत्तीर्ण शिक्षकों को बिहार शिक्षक नियोजन 2019 में आवेदन करने का मौका दिया जाये। अगर हमारी मांगे माने जाने तक हमारे लिए आवदेन का अपर्याप्‍त समय रहता है, तो NIOS डीएलएड प्रशिक्षित शिक्षकों को आवेदन करने के लिए 30 दिनों का मौका मिले और इस संबंध में लिखित आदेशपत्र संबंधित विभाग द्वारा निर्गत किया जाए। अगर हमारी मांगें पूरी नहीं होती है तो वैसी स्थिति में हमारे साथ किसी भी नुकासान के लिए राज्‍य सरकार व संबंधित विभाग जिम्‍मेवार होगी। इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद, राष्ट्रीय महासचिव सह प्रवक्ता प्रेमचंद सिंह ,राष्ट्रीय महासचिव राजेश रंजन पप्पू, प्रदेश महासचिव शंकर पटेल, संदीप सिंह समदर्शी ,छात्र परिषद के अध्यक्ष गौतम आनंद सहित अन्य नेतागण उपस्थित थे । जबकि आमरण अनशन में उमेश गिरि, विपुल कुमार, तेज प्रकाश, विवेक कुमार, अभिमन्‍यु कुमार, सद्दाम हुसैन, अमित कुमार, राम चरित्र प्रसाद, शैलेंद्र, जिया तौफीक, राहुल कुमार समेत कई लोग शामिल हैं।

29-Oct-2019 08:45

राजनीति मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology