26-Sep-2019 10:07

जगुन्नाथ रेड्डी, पुलिस अधीक्षक वैशाली आपसे भी ना हो पाएगा, निकल पड़े यहां से जल्दी

जमुई का इतिहास बताता है कि हत्या और अपराध के लिए जेलों पर ज्यादा भरोसा रखने वाले, कैसे चला पाएंगे ?

सरकार द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक 2013 बैच के आइपीएस अधिकारी, गया, जमुई के बाद पुलिस अधीक्षक जगुन्नाथ रेड्डी को वैशाली का पुलिस अधीक्षक बनाया गया है। जगुन्नाथ रेड्डी द्वारा 24 सितंबर 2019 को वैशाली पुलिस अधीक्षक का पदभार ग्रहण की। बिहार गया के सिटी एसपी जगुन्नाथ रेड्डी को प्रमोट कर बिहार सरकार ने जमुई पुलिस अधीक्षक के रूप में तबदला किया था. नई जिम्मेदारी को लेकर उन्होंने खुशी जाहिर की थी और जमुई में नक्सलियों, शराब, गांजा के साथ ही साथ अन्य प्रकार के नशे का कारोबार स्थापित करने में मदद कियें। सूत्रों के मुताबिक जमुई के सांसद चिराग पासवान के बेहद करीब होने का ही फल है कि वैशाली जैसी संवेदनशील जिले की बागडोर संभालने को मिला। जमुई में कुछ खास नहीं कर पाने से इनकी बहुत किड़किड़ी हुई थी।

लगातार बढ़ती अपराधियों की सूची वैशाली के लिए संकट का विषय है। लेकिन पुलिस अधीक्षक वैशाली के रूप में जो भी जाते हैं, वह सिर्फ खानापूर्ति के लिए ही काम करते हैं। किसी भी प्रकार से जिलावासियों की सुरक्षा की जिम्मेवारी उनके कंधों पर नजर नहीं आती है। पिछले 6 सालों का रिकॉर्ड देखा जाए तो सुरेश चौधरी, राकेश कुमार और फिर मानवजीत सिंह ढिल्लों इन तीनों के द्वारा इतना भयावह स्थिति बना दी गई है जिले की, कि हत्या, लूट जैसी घटनाएं आम हो गई। नई जिम्मेदारी के साथ जगुन्नाथ रेड्डी, पुलिस अधीक्षक, वैशाली की कमान मिली है। जिसे 24 सितंबर 2019 को उन्होंने वैशाली का कमान अपने हाथ में लिया और अब तक 2 दिनों में दो हत्याएं और लगभग 20 लाख से ऊपर की लूट हो चुकी है। पुलिस अधीक्षक बदलने से कितना फर्क पड़ा, यह वैशाली देख रही हैं। अब संभव नहीं लग रहा वैशाली पुलिस अधीक्षक से वैशाली के अंदर कोई भी सुधार की संभावना हो।

नये जगुन्नाथ रेड्डी, पुलिस अधीक्षक, वैशाली पर भरोसा करना कितना उचित होगा। उसकी नींव तो अभी से नजर आ रही है, लेकिन जिला के वह सभी प्रमुख लोग नए पुलिस अधीक्षक के कार्यों की समीक्षा कर रहे हैं। लेकिन याद रखें, आप समीक्षा करते रह जाएंगे और आपके परिवार के लोग चले जाएंगे। उनको लूट लिया जाएगा, उनकी हत्या कर दी जाएगी और आप बुद्धिजीवी समाज के लोग सिर्फ देखते रह जाएंगे। वक्त रहते अगर जिला के लोग अगर अपने हाथों में जिला की कमान नहीं लेते हैं। तो यह संभव नहीं है, पुलिस अधीक्षक वैशाली अपनी जिम्मेदारियों के साथ न्याय कर पाएंगे। इसलिए अति आवश्यक हो जाता है कि नए पुलिस अधीक्षक जगुन्नाथ रेड्डी अपना बोरिया बिस्तर बांधे और यहां से निकल जाए। नहीं तो जो भी इज्जत प्रतिष्ठा अभी तक आपने कमाई है, वह वैशाली में धूमिल हो जाएगी।

क्योंकि आप से भी कुछ हो ना पाएगा ? इसलिए सम्मान के साथ अब जिले की बागडोर छोड़ें और अपने घर में जाकर आराम और सुकुन की जिंदगी जी लिजिए। यह स्पष्ट हो गया कि आप से भी कुछ नहीं हो पाएगा और आप भी आम आदमी को डराने के लिए यहां पर लाए गए हैं। यह सिर्फ राजनीतिक चाल ही नहीं, दो राजनीतिक दलों के बीच की धूरी जनता को बनाकर पीसा जा रहा है। और आप उसके संरक्षक के रूप में वैशाली जिले में आए हैं और याद रखें राजनीति की पहली नींव वैशाली ने रखी और हर कदम को समझने में वैशाली सक्षम है। इसलिए वक्त रहते आप अपना बोरिया बिस्तर समेट निकल चलें। वैशाली के ऊपर आपका बहुत बड़ा एहसान होगा कि आपने वैशाली में अपराध बढ़ाने में राजनीतिक दलों का सहयोग ना किया। वैशाली आपको सदैव याद रखेगी कि आपने अपनी जिम्मेदारियों को ना पूरा करने के एवज में कम से कम हत्या, अपराध, लूट तो नहीं बढ़ाया। इसलिए ध्यान रखें आप और निकल जाइए जो होना होगा वैशाली खुद देख लेंगी।

26-Sep-2019 10:07

पुलिस मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology